सोशल मीडिया के वीरों को एक पत्र

हे भारत के वीरों!

आप थमकर जरा सोच लें फिर अजहर मसूद के बीमार या मरने पर खुशियाँ जाहिर करें। ध्यान से सुनिए। ना ही वो बीमार है और ना ही वो मरा है। वह सुरक्षित किसी सेफ हाउस में अगले कदमों की तैयारी कर रहा है। ये अफवाह सिर्फ इसलिए फैलाई जा रही है ताकि कल यदि भारत युद्ध खत्म करने के बदले उसकी माँग करे तो पाकिस्तान कह सके कि वह तो मर चुका है। पुलवामा का हमला कोई छोटी घटना है। हालाँकि आप समझेंगे नहीं फिर भी निवेदन है कि आप तनिक सोच भी लिया करें। युद्ध सिर्फ सीमाओं पर ही नहीं लड़ा जाता है बल्कि यह चौतरफा मोर्चों पर लड़ा जाता है।

शायद आप इसे समझ नहीं पा रहे हैं परन्तु इस एक अफवाह के सहारे पाकिस्तान कई फ्रंटों पर खेल रहा है। इसलिए आप समझिए कि यह अफवाह कुछ और नहीं बल्कि भारत के अगले कुटनीतिक पहल की काट है और आप जश्न मनाकर भारत को कमजोर ही कर रहे हैं।

आपका
राजीव उपाध्याय

No comments:

Post a comment