क्योंकि मैं रुक ना सकी मृत्यु के लिए

क्योंकि
मैं रुक ना सकी
मृत्यु के लिए
दयालुता से मगर
इन्तजार उसने मेरा किया
और रूकी जब 
तो हम और अमरत्व
बस रह गए।

धीरे-धीरे बढ़ चले 
सफर पर हम 
जल्दबाजी नहीं उसे। 
सब कुछ छोड़ दिया मैंने 
अपनी मेहनत और आराम भी। 
शिष्टता उसकी ऐसी थी!

हम स्कूल से होकर गुजरे 
बच्चे खेल रहे थे जहाँ 
दोपहर की छुट्टी में 
घंटी बजने तक। 
हम खेतों से होकर गुजरे 
जो एकटक देख रहे थे अन्न को 
हम डूबते हुए सूरज से 
होकर गुजरे 
जो पकड़ा था धरती को।

या यूँ कहें 
छोड़कर आगे बढ़ गया सूरज हमको। 
ओस की बूँदों ने 
ठंड का तरकश निकाली 
मेरे पास सिर्फ एक पतली 
रेशमी ओढ़नी बस थी।
हम एक भवन के सामने रुके 
जो उग आया था शायद जमीन से 
और छत उसकी 
बड़ी मुश्किल से दिखाई देती थी 
जैसे कारनीस हो कोई। 

तब से सदियाँ बीत गई हैं 
फिर भी मगर 
दिन से भी छोटा लगता है। 
मैंने सबसे पहले 
घोड़े के सिर का अनुमान लगाया 
जो शाश्वत की दिशा में खड़ा था। 
-----------------------
एमिली डिकिंसन
(अनुवाद - राजीव उपाध्याय)

No comments:

Post a comment