कुछ शेर

समझा जिसे लहू अपने रगों का।
देखा ज़हर वो मिला रहा था॥
------------------------- 
दिल्ली शहर नहीं ये, रंगमंच सराबोर।
मिलते बिछड़ते छुटते छुड़ाते रोज॥
------------------------- 
अपने अन्तर आपने, बाँचे हैं सब कौल।
मगर नहीं कह पाते, कह देता जो मौन॥
------------------------- 
झूठी सकल किताब हैं, झूठे हैं सब वेद।
उतना ही सच जानिए, खोल सके जो भेद॥
------------------------- 
राजीव उपाध्याय

No comments:

Post a comment