ये कौन आया है, दरवाजे पर खड़ा?

ये कौन आया है, दरवाजे पर खड़ा?
देता नहीं जवाब, है मौन मुस्करा रहा
नाम पूछा, पता पूछा
आने की वजह पूछा
कुछ ना बोला मुस्कराता रहा
चुपचाप मगर कुछ बताता रहा।
ये कौन आया है, दरवाजे पर खड़ा?
जानना जब हो गया जरूरी

हाथ लगाकर छूकर देखा 
पर हाथ ना आया कुछ भी;
भ्रम कई होने लगे
निराकार हो वो गाने लगा
पर जब आँख खुली तो मैंने पाया
आइने संग मैं खड़ा था।
ये कौन आया है, दरवाजे पर खड़ा?
------------------------------------------------
राजीव उपाध्याय

No comments:

Post a comment