कुछ तो कहन आँखों का भी होता है

जरूरी नहीं हर बात दिल तक ही पहुँचे
कुछ तो कहन आँखों का भी होता है।
---------------------------

मेरे बारे में भी कभी तो सोचा करो
बस सोचकर ही रो बैठोगे तुम।
--------------------------- 

मगरूर हैं तो क्या हुआ, इजहार-ए-इश्क तो है
मुहब्बत के सफर में हाल-ए-दिल देखा नहीं जाता।
--------------------------- 

है मुमकिन कि तुम मुझसे ख़फ़ा हो जाओ।
जब बात कहूँ दिल की तो बेवफ़ा हो जाओ॥
--------------------------- 

अब तक अभी घर मैं अपने लौटा नहीं हूँ
मुलाकात वो तुझसे वहीं ठहर हुई है।
--------------------------- 
राजीव उपाध्याय

No comments:

Post a comment