चौकीदार

संकरी गलियों से गुजरते हुए
धीमे और सधे कदमों से
लहरायी थी चौकीदार ने लालटेन अपनी 
और कहा था , “सब कुछ ठीक है!"

बैठी बंद जाली के पीछे औरत एक
नहीं था पास जिसके बेचने को कुछ भी;
रुककर दरवाजे पर उसके 
चौकीदार चिल्लाया जोर से, “सब कुछ ठीक है!”

धुप्प अँधेरे में ठिठुरता एक आदमी बुढ़ा
नहीं था पास जिसके खाने को दाना भी एक;
सुनसान गली में गूँजी थकी आवाज
चौकीदार की, “सब कुछ ठीक है!”

गुजरा चौकीदार उस घर से,
पसरी थी खामोशी
मरा था एक बच्चा जहाँ;
और जली थी एक मोमबत्ती
चौकीदार जोर से चीखा, “सब कुछ ठीक है!”

पुरी रात धीमे-सधे कदमों से
चौकीदार ने पुरी रात गुजारी
हर छोटी गली से
और कहा, “सब कुछ ठीक है!”
---------------------------------

मिरियम वेडर

No comments:

Post a comment